Top 10 Famous Desh Bhakti Lyrics In Hindi

Top 10 Famous Desh Bhakti Lyrics In Hindi, Famous Desh Bhakti Geet Lyrics In Hindi, Famous Desh Bhakti Gane Ke Lyrics


Sandese Aate Hain Lyrics

ओ ओ ओ ओ.. ओ ओ ओ ओ
ओ ओ ओ ओ.. ओ ओ ओ ओ

संदेशे आते हैं, हमें तड़पाते हैं
तो चिट्ठी आती है तो पूछे जाती है

के घर कब आओगे
के घर कब आओगे
लिखो कब आओगे
के तुम बिन ये घर सूना सूना है

संदेशे आते हैं, हमें तड़पाते हैं
तो चिट्ठी आती है तो पूछे जाती है

के घर कब आओगे
के घर कब आओगे
लिखो कब आओगे
के तुम बिन ये घर सूना सूना है

किसी दिलवाली ने, किसी मतवाली ने
हमें खत लिखा है ये हमसे पूछा है
किसी की साँसों ने, किसी की धड़कन ने
किसी की चूड़ी ने, किसी के कंगन ने

किसी के कजरे ने, किसी के गजरे ने
महकती सुबहों ने, मचलती शामों ने
अकेली रातों में, अधूरी बातों ने
तरसती बाहों ने, और पूछा है तरसी निगाहों ने

के घर कब आओगे
के घर कब आओगे
लिखो कब आओगे
के तुम बिन ये दिल सूना सूना है

संदेशे आते हैं, हमें तड़पाते हैं
तो चिट्ठी आती है तो पूछे जाती है

के घर कब आओगे
के घर कब आओगे
लिखो कब आओगे
के तुम बिन ये घर सूना सूना है

मोहब्बत वालों ने हमारे यारों ने
हमें ये लिखा है कि हमसे पूछा है
हमारे गाँवों ने, आम की छांवों ने
पुराने पीपल ने, बरसते बादल ने

खेत खलियानों ने, हरे मैदानों ने
बसंती बेलों ने, झूमती बेलों ने
लचकते झूलों ने, बहकते फूलों ने
चटकती कलियों ने
और पूछा है गाँव की गलियों ने

के घर कब आओगे
के घर कब आओगे
लिखो कब आओगे
के तुम बिन गाँव सूना सूना है

संदेशे आते हैं, हमें तड़पाते हैं
तो चिट्ठी आती है तो पूछे जाती है

के घर कब आओगे
के घर कब आओगे
लिखो कब आओगे
के तुम बिन ये घर सूना सूना है..

ओ ओ ओ ओ.. ओ ओ ओ ओ
ओ ओ ओ ओ.. ओ ओ ओ ओ

कभी एक ममता की, प्यार की गंगा की
जो चिट्ठी आती है साथ वो लाती है
मेरे दिन बचपन के खेल वो आंगन के
वो साया आंचल का, वो टीका काजल का

वो लोरी रातों में, वो नरमी हाथों में
वो चाहत आँखों में, वो चिंता बातों में
बिगड़ना ऊपर से मोहब्बत अंदर से
करे वो देवी माँ
यही हर खत में पूछे मेरी माँ

के घर कब आओगे
के घर कब आओगे
लिखो कब आओगे
के तुम बिन आँगन सूना सूना है

संदेशे आते हैं, हमें तड़पाते हैं
तो चिट्ठी आती है तो पूछे जाती है

के घर कब आओगे
के घर कब आओगे
लिखो कब आओगे
के तुम बिन ये घर सूना सूना है

ऐ गुजरने वाली हवा बता
मेरा इतना काम करेगी क्या
मेरे गाँव जा मेरे दोस्तों को सलाम दे
मेरे गाँव में है जो वो गली

जहाँ रहती है मेरी दिलरुबा
उसे मेरे प्यार का जाम दे
उसे मेरे प्यार का जाम दे

वहीं थोड़ी दूर है घर मेरा
मेरे घर में है मेरी बूढ़ी माँ
मेरी माँ के पैरों को छू के तू
उसे उसके बेटे का नाम दे

ऐ गुजरने वाली हवा जरा
मेरे दोस्तों, मेरी दिलरुबा
मेरी माँ को मेरा पयाम दे
उन्हें जा के तू ये पयाम दे

मैं वापस आऊंगा
मैं वापस आऊंगा
फिर अपने गाँवो में
खुशी की छांवों में

कि माँ के आँचल से
गाँव के पीपल से
किसी के काजल से
किया जो वादा था वो निभाऊंगा

मैं एक दिन आऊंगा
मैं एक दिन आऊंगा
मैं एक दिन आऊंगा
मैं एक दिन आऊंगा

मैं एक दिन आऊंगा
मैं एक दिन आऊंगा
मैं एक दिन आऊंगा


Jann Gann Mann Lyrics

हो माई तू मेरी दुनिया रे
तेरे अंचल में भर दूं तारे
हो माई तू मेरी दुनिया रे
तेरे अंचल में भर दूं तारे

शान तेरी न कम होने देंगे वतन
नाम ले ले के तेरा जियेंगे वतन

तेरी ममता पे हम
मर मिटेंगे वतन
तेरी ममता पे हम
मर मिटेंगे वतन

हर तिनका तेरी ज़मीन का
चूमता है गगन

तेरी ममता पे हम
मर मिटेंगे वतन
तेरी ममता पे हम
मर मिटेंगे वतन

मेरा तन मन धन
बस जन गन मन
कन कन में भारत माँ

मेरा तन मन धन
बस जन गन मन
कन कन में भारत माँ

ये देश हैं अलबेलों का
मतवाले यहां रहते हैं
मिट जाये तीरंगे पे जो
वो जियाले यहां रहते हैं

दुनिया में सिर्फ हम ही हैं
जो मुल्क को मां कहते हैं
दुनिया में सिर्फ हम ही हैं
जो मुल्क को मां कहते हैं

हो तेरी माटी तिलक है मेरा
ऐ माँ तुझे नमन

तेरी ममता पे हम
मर मिटेंगे वतन
तेरी ममता पे हम
मर मिटेंगे वतन

मेरा तन मन धन
बस जान गन मन
कन कन में भारत माँ

मेरा तन मन धन
बस जान गन मन
कन कन में भारत माँ

जहान आंख में होगा पानी
जहां ज़ुलम के मौसम होंगे
बरूद लिए सीने में
मौजूद वहां हम होंगे

बाज़ू भी बोहत हैं सर भी
कटने से कहां कम होंगे
बाज़ू भी बोहत हैं सर भी
कटने से कहां कम होंगे

ताल तेरे घर से निकले
हैं बांध कर कफन

तेरी ममता पे हम
मार मिटेंगे वतन
तेरी ममता पे हम
मार मिटेंगे वतन

मेरा तन मन धन
बस जन गन मन
कन कन में भारत माँ

मेरा तन मन धन
बस जन गन मन
कन कन में भारत माँ

मेरा तन मन धन
बस जन गन मन
कन कन में भारत माँ

मेरा तन मन धन
बस जन गन मन
कन कन में भारत माँ


Dil Diya Hai Jaan Bhi Denge Lyrics

मेरा कर्मा तू, मेरा धर्मा तू ।
तेरा सबकुछ मैं, मेरा सबकुछ तू ।।

हर करम अपना करेंगे ऐ वतन तेरे लिए ।
दिल दिया है, जां भी देंगे, ऐ वतन तेरे लिए ।।

तू मेरा कर्मा, तू मेरा धर्मा, तू मेरा अभिमान है,
ऐ वतन मेहबूब मेरे तुझपे दिल कुर्बान है ।
हम जिएंगे और मरेंगे ऐ वतन तेरे लिए,
दिल दिया है, जां भी देंगे, ऐ वतन तेरे लिए ।।

हिन्दू मुस्लिम सिख इसाई, हमवतन हमनाम है,
जो करे इनको जुदा मजहब नहीं इल्ज़ाम है ।
हम जिएंगे और मरेंगे ऐ वतन तेरे लिए,
दिल दिया है, जां भी देंगे, ऐ वतन तेरे लिए ।।

तेरी गलियों में चलाकर नफरतों की गोलियां,
लुटते है कुछ लुटेरे दुल्हनों की डोलियाँ ।
लूट रहे है आप वो अपन घरों को लूटकर,
खेलते हैं बेख़बर अपने लहू से होलिया ।।

दिल दिया है, जां भी देंगे, ऐ वतन तेरे लिए ।।


Ye Desh Hai Veer Jawano Ka Lyrics

ये देश है वीर जवानों का,
अलबेलों का मस्तानों का ।
इस देश का यारों क्या कहना,
ये देश है दुनिया का गहना ।।

यहाँ चौड़ी छाती वीरों की,
यहाँ भोली शक्लें हीरों की ।
यहाँ गाते हैं राँझे मस्ती में,
मचती में धूमें बस्ती में ।।

पेड़ों में बहारें झूलों की,
राहों में कतारें फूलों की ।
यहाँ हँसता है सावन बालों में,
खिलती हैं कलियाँ गालों में ।।

कहीं दंगल शोख जवानों के,
कहीं करतब तीर कमानों के ।
यहाँ नित नित मेले सजते हैं,
नित ढोल और ताशे बजते हैं ।।

दिलबर के लिये दिलदार हैं हम,
दुश्मन के लिये तलवार हैं हम ।
मैदां में अगर हम डट जाएं,
मुश्किल है कि पीछे हट जाएं ।।

ये देश है वीर जवानों का,
अलबेलों का मस्तानों का ।
इस देश का यारों क्या कहना,
ये देश है दुनिया का गहना ।।


Teri Mitti Mein Mil Jawa Lyrics

तलवारों पे सर वार दिए,
अंगारों में जिस्म जलाया है ।
तब जाके कहीं हमने सर पे,
ये केसरी रंग सजाया है ।।

ए मेरी ज़मीं अफसोस नहीं,
जो तेरे लिए सौ दर्द सहे ।
महफूज रहे तेरी आन सदा,
चाहे जान ये मेरी रहे न रहे ।।

ऐ मेरी ज़मीं महबूब मेरी,
मेरी नस नस में तेरा इश्क बहे ।
फीका ना पड़े कभी रंग तेरा,
जिस्मों से निकल के खून कहे ।।

तेरी मिट्टी में मिल जावां,
गुल बनके मैं खिल जावां ।
इतनी सी है दिल की आरजू ।।

तेरी नदियों में बह जावां,
तेरे खेतों में लहरावां ।
इतनी सी है दिल की आरजू ।।

वो ओ..
सरसों से भरे खलिहान मेरे,
जहाँ झूम के भांगड़ा पा न सका ।
आबाद रहे वो गाँव मेरा जहाँ,
मैं लौट के बापस जा न सका ।।

ओ वतना वे मेरे वतना वे,
तेरा मेरा प्यार निराला था ।
कुर्बान हुआ तेरी अस्मत पे,
मैं कितना नसीबों वाला था ।।

तेरी मिट्टी में मिल जावां,
गुल बनके मैं खिल जावां ।
इतनी सी है दिल की आरजू ।।

तेरी नदियों में बह जावां,
तेरे खेतों में लहरावां ।
इतनी सी है दिल की आरजू ।।

ओ हीर मेरी तू हंसती रहे,
तेरी आँख घड़ी भर नम ना हो ।
मैं मरता था जिस मुखड़े पे,
कभी उसका उजाला कम ना हो ।।

ओ माई मेरे क्या फिकर तुझे,
क्यूँ आँख से दरिया बहता है ।
तू कहती थी तेरा चाँद हूँ मैं,
और चाँद हमेशा रहता है ।।

तेरी मिट्टी में मिल जावां,
गुल बनके मैं खिल जावां ।
इतनी सी है दिल की आरजू ।।

तेरी नदियों में बह जावां,
तेरे फसलों में लहरावां ।
इतनी सी है दिल की आरजू ।।


Mera Mulk Mera Desh Lyrics

मेरा मुल्क मेरा देश मेरा ये वतन
शांति का उन्नति का प्यार का चमन
मेरा मुल्क मेरा देश मेरा ये वतन
शांति का उन्नति का प्यार का चमन
इसके वास्ते निसार है मेरा तन मेरा मन

ऐ वतन ऐ वतन ए वतन
जानेमन जानेमन जानेमन
ऐ वतन ऐ वतन ए वतन
जानेमन जानेमन जानेमन

मेरा मुल्क मेरा देश मेरा यह वतन
शांति का उन्नति का प्यार का चमन

इसकी मिटटी से बने तेरे मेरे ये बदन
इसकी धरती तेरे मेरे वास्ते गगन
इसने ही सिखाया हमको जीने का चलन
जीने का चलन

इसके वास्ते निसार है मेरा तन मेरा मन
ऐ वतन ऐ वतन ए वतन
जानेमन जानेमन जानेमन
मेरा मुल्क मेरा देश मेरा यह वतन
शांति का उन्नति का प्यार का चमन

अपने इस चमन को स्वर्ग हम बनायेंगे
कोना कोना अपने देश का सजायेंगे
जश्न होगा जिन्दगी का होंगे सब मगन
होंगे सब मगन

इस के वास्ते निसार है मेरा तन मेरा मन
ऐ वतन ऐ वतन ए वतन
जानेमन जानेमन जानेमन

मेरा मुल्क मेरा देश मेरा यह वतन
शांति का उन्नति का प्यार का चमन
मेरा मुल्क मेरा देश मेरा यह वतन
शांति का उन्नति का प्यार का चमन
इस के वास्ते निसार है मेरा तन मेरा मन

ऐ वतन ऐ वतन ए वतन
जानेमन जानेमन जानेमन
ऐ वतन ऐ वतन ए वतन
जानेमन जानेमन जानेमन


Mere Desh Ki Dharti Lyrics

आ आ ओ ओ…

मेरे देश की धरती, मेरे देश की धरती
सोना उगले, उगले हीरे मोती
मेरे देश की धरती, मेरे देश की धरती

मेरे देश की धरती, सोना उगले, उगले हीरे मोती
मेरे देश की धरती, मेरे देश की धरती

आ आ ओ ओ

बैलों के गले में जब घुँगरू
जीवन का राग सुनाते हैं
जीवन का राग सुनाते हैं
गम कोस दूर हो जाता है

खुशियों के कंवल मुसकाते हैं
खुशियों के कंवल मुसकाते हैं

ओ ओ…

सुन के रहट की आवाज़े
सुन के रहट की आवाज़े
यूँ लगे कही शहनाई बजे
यूँ लगे कही शहनाई बजे

आते ही मस्त बहारों के
दुल्हन की तरह हर खेत सजे
दुल्हन की तरह हर खेत सजे

मेरे देश की धरती
मेरे देश की धरती
मेरे देश की धरती
मेरे देश की धरती

सोना उगले
उगले हीरे मोती
मेरे देश की धरती
मेरे देश की धरती

जब चलते हैं इस धरती पे हल
ममता अंगडाईयाँ लेती है
ममता अंगडाईयाँ लेती है
क्यो ना पूजे इस माटी को जो जीवन का सुख देती है
जो जीवन का सुख देती है

ओ ओ…

इस धरती पे जिस ने जनम लिया
इस धरती पे जिस ने जनम लिया
उसने ही पाया प्यार तेरा
उसने ही पाया प्यार तेरा

यहाँ अपना पराया कोई नहीं
यहाँ अपना पराया कोई नहीं,
है सब पे माँ उपकार तेरा है
सब पे माँ उपकार तेरा

मेरे देश की धरती, मेरे देश की धरती
मेरे देश की धरती, मेरे देश की धरती
सोना उगले, उगले हीरे मोती
मेरे देश की धरती, मेरे देश की धरती

ये बाग है गौतम नानक का
खिलते हैं अमन के फूल यहाँ
खिलते हैं अमन के फूल यहाँ
गाँधी, सुभाष, गाँधी, सुभाष

टैगोर, तिलक ऐसे हैं चमन के फूल यहाँ
ऐसे हैं चमन के फूल यहाँ

रंग हरा हरीसिंग नलवे से
रंग लाल है लाल बहादूर से
रंग बना बसंती भगतसिंग
रंग बना बसंती भगतसिंग

रंग अमन का वीर जवाहर से
रंग अमन का वीर जवाहर से

मेरे देश की धरती, मेरे देश की धरती
मेरे देश की धरती, मेरे देश की धरती
सोना उगले, उगले हीरे मोती
मेरे देश की धरती, मेरे देश की धरती

मेरे देश की धरती, मेरे देश की धरती
मेरे देश की धरती, मेरे देश की धरती
सोना उगले, उगले हीरे मोती
मेरे देश की धरती, मेरे देश की धरती

मेरे देश की धरती, मेरे देश की धरती
मेरे देश की धरती, मेरे देश की धरती
सोना उगले, उगले हीरे मोती
मेरे देश की धरती, मेरे देश की धरती


Desh Mere Lyrics

ओह देश मेरे
तेरी शान पे सदके
कोई धन है क्या
तेरी धूल से बढ़ के

तेरी धूप से रौशन
तेरी हवा पे जिंदा
तू बाग है मेरा
मैं तेरा परिंदा

है अर्ज़ यह दीवाने की
जहाँ भोर सुहानी देखी
इक रोज़ वहीं मेरी शाम हो

कभी याद करे जो ज़माना
माटी पे मार मिट जाना
ज़िकार में शामिल मेरा नाम हो

ओह देश मेरे
तेरी शान पे सदके
कोई धन है क्या
तेरी धूल से बढ़ के

तेरी धूप से रौशन
तेरी हवा पे जिंदा
तू बाग है मेरा
मैं तेरा परिंदा

आँचल तेरा रहे मा
रंग बिरंगा
ओह उँचा आसमान से
हो तेरा तिरंगा

जीने की इज़ाज़त देदे
या हुकुम शहादत देदे
मंजूर हूमें जो भी तू चुने

रेशम का हो मधुशाला
या कफ़न सिपाही वाला
ओढेंगे हम जो भी तू बून

ओह देश मेरे
तेरी शान पे सदके
कोई धन है क्या
तेरी धूल से बढ़ के

तेरी धूप से रौशन
तेरी हवा पे जिंदा
तू बाग है मेरा
मैं तेरा परिंदा


We Hope This Article From Desh Bhakti Lyrics In Hindi/English” +Video Must Have Been Well-liked. What Do You Think About The Song Of “Desh Bhakti Song”, You Must Tell Us By Commenting.

Visit AllHindiLyric.com For All Types Of Songs And Bhajans Lyrics + Videos.

Leave a Comment

error: Allhindilyric.com