पता नहीं किस रूप में आकार Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Lyrics – Narci

Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Lyrics In Hindi/English, Sung By Narci. The Song Is Written By Narci And Music Composed By Narci.


Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Song Details

📌 Song TitlePata Nahi Kis Roop Me Aakar
🎤 SingerNarci
✍️ LyricsNarci
🎼 MusicNarci
🏷️ Music LabelPosina

Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Lyrics In Hindi

पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा
निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा
पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा
निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा

पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा
निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा

सांस रुकी तेरे दर्शन को, न दुनिया में मेरा लगता है
शबरी बांके बैठा हूं मेरा श्री राम में अटका मन
बेकार मेरे दिल को मैं कितना भी समझा लूं

राम दरस के बाद दिल चोरेगा ये धड़कन
काले युग प्राणि हूं पर जीता हूं मैं त्रेता युग

कर्ता हूं महसुस पलों को माना न वो देखा युग
देगा युग कलि का ये पापोन के उपहार का
चांद मेरा पर गाने का हर प्राण को देगा सुख
हरि कथा का वक्त हूं मैं, राम भजन की आदत

राम आभारी शायर, मिल जो राही है दावत
हरि कथा सुना के मैं चोर तुम्हें कल जाउंगा
बाद मेरे न गिरने न देना हरि कथा विरासतत

पाने को दीदार प्रभु के नैन बड़े ये तरस है
जान सके ना कोई वेदना रातों को ये बरसे है
किसे पता किस मौके पे, किस भूमि पे, किस कोने में
मेले में या वीराने में श्री हरि हमें दर्शन दे

पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा
निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा
पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा
निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा

पता नहीं किस रूप में आकार
इंतजार में बैठा हूं कब बीतेगा ये काला युग
बीतेगी ये पीडा और भारी दिल के सारे दुख
मिलने को हूं बेकार पर पाप का मैं भागी भी

नाज़रीन मेरी आगे तेरे श्री हरि जाएगी झुक
राम नाम से जुड़े हैं ऐसे खुद से भी ना मिल पाए
कोई ना जाने किस चेहरे में राम हमें कल मिल जाए
वैसे तो मेरे दिल में हो पर आंखें प्यासी दर्शन की

शाम, सवेरे सारे मौसम राम गीत ही दिल गए
रघुवीर ये वींटी है तुम दूर करो अंधेरों को
दूर करो परेशानी के सारे भुखे शेरों को
शबरी बांके बैठा पर काले युग का प्राण हूं

मैं जूता भी ना कर दूंगा पापी मुह से बेरो को
बन चुका बैरागी दिल, नाम तेरा ही लेता है
शायर अपनी सांसें ये राम सिया को देता है

और नहीं इच्छा है अब जीने की मेरी राम यहां
बाद मुझे मेरी मौत के बस ले जाना तुम त्रेता में
शायद तुम्हे यह भी अच्छा लगे

Narci Songs


Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Lyrics In English

Pata Nahi Kis Roop Mein Aakar Narayan Mil Jayega
Nirmal Man Ke Darpan Mein Wah Ram Ke Darshan Payega
Pata Nahi Kis Roop Mein Aakar Narayan Mil Jayega
Nirmal Man Ke Darpan Mein Wah Ram Ke Darshan Payega

Sans Ruki Tere Darshan Ko Na Duniya Mein Mera Lagta Man
Shabri Banke Baitha Hoon Mera Shree Ram Mein Atka Man
Bekarar Mere Dil Ko Main Kitna Bhi Samjha Loon
Ram Daras Ke Bad Dil Chhodega Ye Dhadkan

Kale Yug Prani Hoon Par Jeeta Hoon Main Treta Yug
Karta Hoon Mehsus Palon Ko Mana Na Wo Dekha Yug
Dega Yug Kali Ka Ye Papon Ke Uphar Kayi
Ch And Mera Par Gane Ka Har Prani Ko Dega Sukh
Hari Katha Ka Vakta Hoon Main Ram Bhajan Ki Aadat

Ram Aabharee Shayar Mil Jo Rahi Hai Dawat
Hari Katha Suna Ke Main Chhod Tumhein Kal Jaunga
Bad Mere Na Girne Na Dena Hari Katha Virasat
Pane Ko Deedar Prabhu Ke Nain Bade Ye Tarse Hai

Jan Sake Na Koi Vedna Raton Ko Ye Barse Hai
Kise Pata Kis Mauke Pe Kis Bhoomi Pe Kis Kone Mein
Mele Mein Ya Veerane Mein Shree Hari Humein Darshan De

Pata Nahi Kis Roop Mein Aakar Narayan Mil Jayega
Nirmal Man Ke Darpan Mein Wah Ram Ke Darshan Payega
Pata Nahi Kis Roop Mein Aakar Narayan Mil Jayega
Nirmal Man Ke Darpan Mein Wah Ram Ke Darshan Payega

Pata Nahi Kis Roop Mein Aakar…

Intezar Mein Baitha Hoon Kab Beetega Ye Kala Yug
Beetegi Ye Peeda Aur Bhari Dil Ke Sare Dukh
Milne Ko Hoon Bekarar Par Papon Ka Main Bhagi Bhi
Nazarein Meri Aage Tere Shree Hari Jayegi Jhuk

Ram Nam Se Jude Hai Aise Khud Se Bhi Na Mil Paye
Koi Na Jane Kis Chehre Mein Ram Humein Kal Mil Jaye
Vaise To Mere Dil Mein Ho Par Aakhein Pyasi Darshan Ki

Sham Savere Sare Mausam Ram Geet Hi Dil Gaye
Raghuvir Ye Veenti Hai Tum Door Karo Andheron Ko
Door Karo Pareshani Ke Sare Bhookhe Sheron Ko

Shabri Banke Baitha Par Kale Yug Ka Prani Hoon
Main Jootha Bhi Na Kar Paunga Papi Muh Se Beron Ko
Ban Chuka Bairagi Dil Nam Tera Hi Leta Hai
Shayar Apni Sansein Ye Ram Siya Ko Deta Hai

Aur Nahi Iccha Hai Ab Jeene Ki Meri Ram Yahan
Bad Mujhe Meri Maut Ke Bas Le Jana Tum Treta Mein
Ram Ke Charitr Mein Sabko Apne Ghar Ka Apne Kashton

Ka Jawab Milta Hai..

Pata Nahi Kis Roop Mein Aakar Narayan Mil Jayega
Nirmal Man Ke Darpan Mein Wah Ram Ke Darshan Payega
Pata Nahi Kis Roop Mein Aakar Narayan Mil Jayega
Nirmal Man Ke Darpan Mein Wah Ram Ke Darshan Payega.


Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Song FAQS:-

Q1. Who Is The Singer Of “Pata Nahi Kis Roop Me Aakar” ?.

Ans: Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Song Is Sung By “Narci”.

Q2. Who Wrote The Lyrics Of “Pata Nahi Kis Roop Me Aakar” ?.

Ans: Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Song Lyrics Written By “Narci”.

Q3. Who Composed The Music Of The Song “Pata Nahi Kis Roop Me Aakar“ ?

Ans: Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Song Music By “Narci”.


We Hope This Article From “Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Lyrics In Hindi/English” +Video Must Have Been Well-liked. What Do You Think About The Song Of “Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Song”, You Must Tell Us By Commenting.

Visit AllHindiLyric.com For All Types Of Songs And Bhajans Lyrics + Videos.

Leave a Comment

error: Allhindilyric.com